केंद्रीय गृह मंत्रालय से राज्य सरकार की शिकायत करने में जुटी सीबीआई

कोलकाता । कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार से पूछताछ के लिए उनके घर सीबीआई पूरी टीम समेत पहुंचे। डिप्टी कमिश्नर तथागत वर्धन समेत उनकी पूरी टीम को कॉलर पकड़कर जबरदस्ती खींचते हुए पुलिस की गाड़ी में डालकर थाना ले जाने की घटना की शिकायत सीबीआई केंद्रीय गृह मंत्रालय से करने जा रही है। सीबीआई सूत्रों के हवाले से रविवार शाम इसकी पुष्टि की गई है। बताया गया है कि इसकी पूरी रिपोर्ट तैयार की जा रही है और इसकी शिकायत गृह मंत्रालय से की जा रही है। कोलकाता पुलिस के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए आवश्यक सुरक्षा और अन्य कार्रवाई करने संबंधी छूट की मांग की जाएगी।

कोलकाता पुलिस आयुक्त के घर पहुंचे सीएम और एडीजी, सीबीआई अफसरों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

कोलकाता पुलिस के आयुक्त राजीव कुमार से पूछताछ करने के लिए उनके लाउडन स्ट्रीट स्थित आवास पर सीबीआई की टीम के पहुंचने की जानकारी मिलने के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्य के कानून व्यवस्था के एडीजी अनुज शर्मा पहुंचे हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राजीव कुमार से मुलाकात कर पूरे हालात को समझने की कोशिश की है। सीबीआई की टीम क्यों आई थी, क्या स्थिति है और आगे क्या कुछ किया जा सकता है? इस बारे में चर्चा हुई है। सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि मुख्यमंत्री ने स्पष्ट निर्देश दिया है कि कानूनी तौर पर जो भी जायज हो वह करने के लिए पुलिस आयुक्त स्वतंत्र हैं। उधर, सीबीआई अधिकारी तथागत वर्धन समेत तीन अधिकारियों को कोलकाता पुलिस की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है।

http://www.dainikbhaskarup.com/2019/02/03/police-officers-arrested-in-kolkata-5-officers-of-cbi-team-to-arrest-the-commissioner-news/

बताया गया है कि कोलकाता पुलिस मुख्यालय लाल बाजार के गुंडा दमन शाखा ने इन्हें जबरदस्ती पकड़कर खींचते हुए पुलिस की गाड़ी में डाला है और शेक्सपियर सरणी थाना में ले गई है। उधर विधाननगर पुलिस कमिश्नरेट की टीम भारी संख्या में सीजीओ कांप्लेक्स स्थित सीबीआई के पूर्वी क्षेत्रीय मुख्यालय में पहुंचकर पूरे सीबीआई दफ्तर को ही घेर लिया है और किसी को भी बाहर नहीं निकलने दे रहे हैं

पुलिस कमिश्नर की ईमानदारी सवालों से परे- ममता

ममता बनर्जी ने ट्वीट कर कहा कि कोलकाता के पुलिस कमिश्नर दुनिया के सबसे अच्छे ऑफिसर हैं. ममता ने ट्वीट किया, “उनकी ईमानदारी और बहादुरी सवालों से परे है, वह दिन रात काम कर रहे हैं और वह हाल ही में एक दिन की छुट्टी पर थे.”

बीजेपी नेतृत्व पर भड़कते हुए ममता ने कहा कि बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व घटिया किस्म की बदले की राजनीति कर रहा है, ना सिर्फ राजनीतिक पार्टियां उनके निशाने पर है बल्कि वे लोग पुलिस को भी टारगेट कर रहे हैं इस तरह वे पूरी संस्था को बर्बाद करना चाहते हैं. ममता बनर्जी ने कहा कि हम इसकी निंदा करते हैं.

क्या है सारदा चिटफंड

साल 2013 में देश की सुर्खियों में आए सारदा घोटाले में 10 हजार करोड़ रुपये की जालसाजी का आरोप है. जिसके मुताबिक सारदा चिटफंड ग्रुप के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर सुदीप्त सेन ने कई स्कीमों के जरिए बंगाल और उड़िसा के करीब 14 लाख निवेशकों से पैसा जुटाया और उन्हें ठगा. ईडी अब तक सारदा की छह संपत्तियों की कुर्की कर चुका है, जिसकी कीमत 500 करोड़ रुपये है. एक्टर से राजनीतिज्ञ बने तृणमूल कांग्रेस के सांसद मिथुन चक्रवर्ती ब्रांड एंबेस्डर के तौर पर सारदा कंपनी से लिए गए 1.20 करोड़ रुपये पहले ही ईडी को सौंप चुके हैं.

Back to top button
E-Paper