लॉकडाउन में रवाना होने वाली पहली स्पेशल ट्रेन बनी नई दिल्ली-बिलासपुर

  • -रेलवे ने आज नई दिल्‍ली से 3 स्‍पेशल ट्रेनें की बहाल, चार हजार से अधिक लोग पहुंचेंगे घर
  • रेलवे को तीन ट्रेनों से मिला लगभग 60 लाख से अधिक का राजस्व
  • आरोग्य सेतु एप डाउनलोड कराने के लिए स्टेशनों पर फ्री वाई-फाई की सुविधा
  • दो गज की दूरी, सैनिटाइजेशन और स्वच्छता पर रहा विशेष जोर

नई दिल्ली, 12 मई (हि.स.)। कोरोना और देशव्यापी तालाबंदी (लॉकडाउन) के बीच मंगलवार को नई दिल्ली से बिलासपुर के लिए स्पेशल ट्रेन को रवाना किया गया। इसके साथ 50 दिनों के बाद भारतीय रेलवे की यात्री ट्रेन सेवाओं की बहाली क्रमबद्ध तरीके से शुरू हो गई है।
रेलवे ने 15 जोड़ी वातानुकूलित (एसी) स्पेशल ट्रेनों की बुकिंग शुरू कर दी है। इसके तहत रेलवे ने आज नई दिल्ली से तीन स्पेशल ट्रेन बहाल की, जबकि 5 स्‍पेशल ट्रेनें अन्य शहरों से नई दिल्ली की ओर प्रस्थान करेंगी। इससे लगभग 10 हजार लोग लम्बे समय के बाद अपने घरों पर होंगे। ये स्‍पेशल रेल सेवाएं भारतीय रेलवे द्वारा चलाई जा रही श्रमिक स्‍पेशल के अतिरिक्त होंगी।
उत्तर रेलवे के अनुसार, नई दिल्ली से बिलासपुर जाने वाली स्‍पेशल ट्रेन में यात्रा के लिए 1531 टिकट आरक्षित किए गए जिससे रेलवे को 23 लाख 36 हजार रुपये का राजस्व मिला।

वहीं नई दिल्ली से डिब्रूगढ़ जाने वाली स्पेशल ट्रेन के लिए 1491 टिकट बुक किए गए और इससे रेलवे को 25 लाख 90 हजार रुपये का राजस्व मिला। वहीं नई दिल्‍ली से बेंगलुरू जाने वाली स्‍पेशल ट्रेन में यात्रा करने वाले 1162 यात्रियों के लिए कुल 804 पीएनआर बनाए गए।लॉकडाउन के बीच मंगलवार को शाम साढ़े चार बजे नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से पहली स्टेशल ट्रेन ने प्रस्थान किया। रेलगाड़ी संख्या 02442 नई दिल्ली-बिलासपुर ट्रेन कुल 1531 यात्रियों को लेकर बिलासपुर के लिए रवाना हुई। इसके बाद रेलगाड़ी संख्या 02424 नई दिल्‍ली से डिब्रूगढ़ के लिए रवाना हुई। आज रात में सवा नो बजे नई दिल्ली से बेंगलुरु के लिए वी ट्रेन रवाना होगी। रेलवे को तीन ट्रेनों से लगभग 60 लाख का राजस्व प्राप्त हुआ।

इस मौके पर रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष विनोद कुमार यादव और दिल्ली डिवीजन के डीआरएम एससी जैन सहित तमाम अधिकारी मौजूद थे। यादव ने स्टेशन परिसर में तमाम सुविधाओं का निरीक्षण किया और संतुष्टि व्यक्त की। उन्होंने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग और हाइजीन के प्रोटोकॉल का ध्यान रखते हुए देशभर में रेलवे स्टेशनों पर दो गज की दूरी पर विशेष निशान बनाए गए हैं।
यात्रियों के लिए आरोग्य सेतु ऐप को अनिवार्य बताते हुए उन्होंने कहा कि यूं तो अधिकांश यात्री स्वयं ही अपने मोबाइल में ऐप डाउनलोड कर कर स्टेशन पहुंच रहे हैं लेकिन फिर भी जो रह गए हैं उन्हें ऐप डाउनलोड कराया जा रहा है, इसके लिए स्टेशनों पर फ्री वाई-फाई की सुविधा की गई है।
दिल्ली में रहकर पढ़ाई करने वाली ऐसी ही एक छात्रा सीमा जो बिलासपुर जाने वाली ट्रेन में सवार होने के लिए स्टेशन पहुंची थी। उसने कहा वह काफी दिनों बाद घर जा रही है। उसने कहा की जब कल उसका टिकट बुक हो गया तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं था। जब उसने इसकी सूचना अपने माता-पिता को दी तो उन्होंने राहत की सांस ली।

ऐसे ही एक यात्री शैलेश ने नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर रेलवे द्वारा मुहैया कराई जाने वाली सुविधाओं के प्रति संतुष्टि व्यक्त करते हुए कहा की यहां ऑटोमेटिक हैंड सैनेटाइजिंग मशीन और सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का काफी कड़ाई से पालन हो रहा है। रेल यात्रियों को यूं तो डेढ़ घंटा पहले स्टेशन पहुंचना था लेकिन एहतियातन यात्रियों ने चार घंटे पहले ही स्टेशन पर पहुंचना शुरू कर दिया था, यहां पर यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग के बाद कोरोना लक्षण नहीं होने का प्रमाण पत्र दिया गया यात्रियों को मास्क अथवा फेस कवर पहनने की हत्या दी गई और उचित दूरी बनाकर रेलगाड़ियों में चढ़ाया गया।

Back to top button
E-Paper