जिसने किया 4000 करोड़ का घोटाला, आज उसी की पत्नी कांग्रेस में हुई शामिल 

नयी दिल्ली : लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर कांग्रेस तेजी से आगे बढ़ रही है। एक तरफ कांग्रेस ने निर्दलीय चुनाव जीतकर झारखंड का मुख्यमंत्री बनने का इतिहास रचने वाले मधु कोड़ा की पत्नी को बृहस्पतिवार को कांग्रेस का हाथ थमा दिया है। दूसरी तरफ दिग्गज भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह भी शनिवार को कांग्रेस का हाथ थाम सकते हैं।

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा की विधायक पत्नी गीता कांग्रेस में शामिल

चार हजार करोड़ रुपये के घोटाले के आरोपी झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोडा की पत्नी जगन्नाथपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक गीता कोड़ा बृहस्पतिवार को नयी दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की उपस्थिति में कांग्रेस में शामिल हो गयीं।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजेश ठाकुर ने यहां बताया कि गीता कोड़ा नयी दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की उपस्थिति में पार्टी में शामिल हो गयीं। इस मौके पर पार्टी के झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय सिंह और पूर्व विधानसभाध्यक्ष आलमगीर आलम भी उपस्थित थे।

गीता कोड़ा झारखंड के जगन्नाथपुर विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय विधायक हैं। वर्ष 2014 में वह लगातार दूसरी बार राज्य विधानसभा के लिए चुनी गयी थीं। इससे पूर्व इस विधानसभा क्षेत्र से उनके पति मधु कोड़ा 2005 में निर्दलीय विधायक चुने गये थे और 2006 में वह कांग्रेस, राजद एवं झामुमो के समर्थन से राज्य के मुख्यमंत्री बने थे। वह लगभग दो वर्ष तक मुख्यमंत्री थे और इस दौरान उन पर विभिन्न मामलों में चार हजार करोड. रुपये का घोटाला करने के आरोप लगे थे जिसके चलते वह जमानत न मिलने से लगभग तीन वर्ष तक जेल में भी रहे।उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के अनेक मामले अभी भी विभिन्न अदालतों में लंबित हैं।

गीता कोड़ा ने आश्चर्यजनक रूप से कुछ माह पूर्व हुए राज्य सभा के लिए द्विवार्षिक चुनाव में भाजपा का समर्थन किया था।

दिल्ली आकर कांग्रेस ज्वाइन करेंगे मानवेंद्र

मानवेंद्र दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की उपस्थिति में कांग्रेस का हा‌थ थामेंगे। बताया जा रहा है कि उन्होंने कांग्रेस को आगामी राजस्‍थान विधानसभा चुनावों में उन्होंने कांग्रेस से पांच विधानसभा सीटों की मांग की थी। राजस्‍थान पत्रिका की एक खबर के अनुसार इस पर दोनों में सहम‌ति बन चुकी है।

Back to top button
E-Paper